विश्व की नदियाँ

विश्व की लंबी नदियाँ

दुनिया में सबसे लंबी नदी है नील( लंबाई 6,650 कि.मी.)
यूरोप में सबसे लंबी नदी है वोल्गा ( लंबाई 3,530 कि.मी.)
एशिया में सबसे लंबी नदी है यांग्त्जे ( लंबाई 6,300 कि.मी.)
उत्तरी अमेरिका में सबसे लंबी नदी है मिसौरी-मिसिसिपी ( लंबाई 5,971 कि.मी.)
दक्षिण अमेरिका मे सबसे लंबी नदी है अमेज़न (लंबाई 6,400 कि.मी.)
संयुक्त राज्य अमेरिका की सबसे लंबी नदी है मिसौरी-मिसिसिपी
चीन की सबसे लंबी नदी है यांग्त्जे ( लंबाई 5,971 कि.मी.)
भारतीय महाद्वीप की सबसे लंबी नदी है सिंधु (लंबाई 3,180 कि.मी.)
आस्ट्रेलिया की सबसे लंबी नदी है मुरे-डार्लिंग (लंबाई 3,720 कि.मी.)
यूनाइटेड किंगडम की सबसे लंबी नदी सेवर्न (लंबाई 354 कि.मी.)
विश्व की सबसे बड़ी नदी (पानी की मात्रा के संदर्भ में) अमेज़न
विश्व की सबसे गहरी नदी है कांगो जो ज़ैरे नदी के नाम से भी जानी जाती है ।

विश्व की नदियाँ और शहर

शहर नदी के किनारे
बगदाद टिगरिस
बैंकाक छाऊ फ्राया
बेलग्रेड डेन्यूब
बुडापेस्ट डेन्यूब
काइरो नील
कराची सिंधु
लाहौर रवि
लंडन थेम्स
मोंट्रियल सेंट लॉरेंस
मास्को मॉस्क्वा
न्यू यार्क हडसन
पेरिस सीन
रोम टाइबर
शंघाई हुवांग्पु
वियना डेन्यूब

विश्व के जल-प्रपात और नदियाँ

जल प्रपातनदीराष्ट्र
नियाग्रा जलप्रपात नियाग्रा कनाडा/संयुक्त राज्य अमेरिका
विक्टोरिया जलप्रपात ज़ाम्बेज़ी जाम्बिया
एंजल जलप्रपात चूरून वेनेजुएला
इग्वासू जलप्रपात इग्वासू अर्जेंटीना
काय्टूर जलप्रपात पोटारो गुयाना
नोट: विश्व में अनगिनत जलप्रपात है पर भारतीय प्रतियोगी परीक्षाओं को ध्यान में रखते हुए कुछ ही सूचीबद्ध किए गए हैं ।

विश्व के कुछ प्रमुख बाँध और नदियाँ

बाँधनदीराष्ट्र
अस्वन बाँधनील मिस्र
जिनपिंग -I बाँध यालोंग चीन
तीन घाटी बांध (थ्री गोरजेस बांध) यांग्त्जेचीन
न्युरेक बांधवख्श ताजिकिस्तान
इटाइपु बांधपराना ब्राजील और पराग्वे
हूवर बांध कोलोराडो सं.रा.अ.
नोट: विश्व में अनगिनत बांध है पर भारतीय प्रतियोगी परीक्षाओं को ध्यान में रखते हुए कुछ ही सूचीबद्ध किए गए हैं ।

विश्व नदियों पर कुछ जरुरी जानकारी

विश्व के चार राजधानी शहर बुडापेस्ट (हंगरी), बेलग्रेड (सर्बिया), वियना (ऑस्ट्रिया) और ब्रातिस्लावा (स्लोवाकिया) डेन्यूब नदी के किनारे स्थित है । यह नदी दस राष्ट्रों को छूते हुए या होकर बहती है । वे राष्ट्र है जर्मनी, ऑस्ट्रिया, स्लोवाकिया, हंगरी, क्रोएशिया, सर्बिया, बुल्गारिया, रोमानिया, यूक्रेन और मोलदाविया ।
दो बार भूमध्य रेखा को पार करने वाली नदी है ज़ैरे ।
ह्वांग हो या पीली नदी को चीन के दु:ख के रूप में जाना जाता है ।
नील नदी भूमध्य रेखा के दक्षिण से शुरू होती है और कर्क रेखा को पार कर समुद्र में जा मिलती है ।
अमेज़न नदी पर कोई पुल नही है ।
सऊदी अरब, कुवैत, यमन, बहरीन, कतर आदि ऐसे कुछ देश हैं जिनमे कोई नदी नही बहती है ।



© www.leadthecompetition.in    Copyright Policy