दिल्ली सल्तनत के राजवंश

वंश राज्य-काल प्रमुख शासक
मामलुक या गुलाम वंश 1206 - 1290 कुतुबुद्दीन ऐबक, इल्तुतमिश, रजिया सुल्तान, गियासुद्दिन बलबन
खिलजी राजवंश 1290 - 1320 अलाउद्दीन खिलजी
तुगलक वंश 1321 - 1413 मुहम्मद बिन तुगलक, फिरोज शाह तुगलक
सैयद वंश 1414 - 1450 खिज्र खान
लोधी वंश 1451 - 1526 इब्राहिम लोदी

महत्वपूर्ण शासक और उनसे जुड़ी जरुरी जानकारी

शासक जानकारी
कुतुबुद्दीन ऐबक
  • वह मोहम्मद गोरी का एक गुलाम था ।
  • वह गुलाम वंश (मामलुक सल्तनत) का संस्थापक और दिल्ली का पहला सुल्तान था ।
  • उसने 1206 से 1210 ईस्वी तक, केवल चार साल शासन किया । उसकी मृत्यु लाहौर में पोलो खेलते समय हुई ।
  • दिल्ली का क़ुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद और अजमेर का ढाई दिन के झोंपड़े का निर्माण उसने किया था ।
  • प्रसिद्ध सूफी संत कुतुबुद्दीन बख्तियार काकी को समर्पित दिल्ली के कुतुब मीनार का निर्माण उसीने शुरू किया था ।
  • उसकी उदारता के लिए उसे लाखबक्श के नाम से भी याद किया जाता है ।
इल्तुतमिश
  • उसने चांदी का टंका और तांबे का जितल दो महत्वपूर्ण सिक्के चलवाए (एक सिक्के का मानक वजन 175 अनाज के दाने था)।
  • उसने इक़्तादारी प्रणाली की शुरुवात की, जिसमे साम्राज्य को इक़्तों मे विभाजित किया गया और वेतन के एवज में रईसों और अधिकारियों को सौंपा गया ।
  • उसने 1230 में महरौली के हौज-ए-शम्शी जलाशय का निर्माण किया ।
  • कुतुबुद्दीन ऐबक द्वारा शुरू किया कुतुब मीनार का कार्य पूरा किया ।
  • सुल्तान घड़ी जिसे दिल्ली की पहली इस्लामी समाधि माना जाता है उसने अपने सबसे बड़े पुत्र, राजकुमार नसीरुद्दिन महमूद की स्मृति निर्मित की थी ।
  • मंगोलियाई हमलावर चंगेज खान, ने इसीके शासनकाल के दौरान सिंधु नदी के तट पर पहला हमला किया था ।
  • इल्तुतमिश ने 25 वर्षों तक शासन किया, और सबसे लंबे समय तक शासन करने वाला गुलाम सुल्तान था ।
रजिया सुल्तान
  • रजिया दिल्ली के सिंहासन पर बैठने वाली पहली महिला थी ।
  • अपने पिता शम्स-उद-दीन इल्तुतमिश के बाद 1236 में दिल्ली की सल्तनत को संभाला ।



© www.leadthecompetition.in    Copyright Policy